नयी दिल्ली : आज जब अचानक प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट करके देशवासियों को यह सूचना दी कि वह अफगानिस्तान से वापसी के समय कुछ देर के लिए पाकिस्तान में रुकेंगे तब हर कोई आश्चर्य में डूब गया! प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का ये दौरा इतना गुप्त रखा गया कि मीडिया तक को भी इसकी भनक नहीं लग सकी! मोदी के इस सरप्राइज विजिट के बारे में किसी को कानो कान खबर नहीं थी! उन्होंने खुद ट्वीट करके अपने पाकिस्तान जाने और Nawaz Sharif से मुलाकात करने जाने की खबर दी है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने ट्वीट में लिखा है कि आज दोपहर बाद वो प्रधानमंत्री नवाज शरीफ से लाहौर में मुलाकात करेंगे और वहां से वापस दिल्ली लौट आएंगे!  अब हर कोई यह जानना चाहता है कि आखिर क्यों प्रधानमंत्री पाकिस्तान गए! मोदी को उनके पाकिस्तान विरोधी भाषणो के लिए जाना जाता है परन्तु उनकी इस सरप्राइज विजिट ने लोगों को यह सोचने पर मजबूर कर दिया है कि आखिर वह कौन सी वजह है जिसने मोदी को पाकिस्तान जाने पर मजबूर कर दिया!

यह भी पढ़िए – कौन है भारत में नरेंद्र मोदी के बाद सबसे ज्यादा लोकप्रिय राजनेता?

modi in pakistan

माना जा रहा है कि दोनों देशों के बीच रिश्तों की गर्माहट को और आत्मीयता देने के लिए मोदी जी ने लाहौर में नवाज शरीफ से खुद मिल कर उन्हें उनके जन्मदिन की बधाई दी, इस दौरान दोनों नेताओं में कुछ अहम मुद्दों पर बातचीत हुई। दोनों देशों के बीच बातचीत का सिलसिला काफी दिनों से रुका हुआ है जिसे आगे बढ़ाने का काम मोदी जी की यह यात्रा करेगी! हालांकि ये मुलाकात काफी छोटी थी जो एक-दो घंटों तक की ही थी।

इससे पहले पीएम नरेंद्र मोदी और पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज शरीफ दोनो जलवायु सम्मेलन के दौरान पेरिस में मिले थे। करीब 160 सेकेंड की उस मुलाकात में दोनों देश इतने करीब आ गए कि महीनों से रुका बातचीत का सिलसिला फिर से चल निकला। बाद में बैंकॉक में दोनों देशों के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारों की बैठक हुई और उसके बाद विदेश मंत्री सुषमा स्वराज इस्लामाबाद जाकर नवाज शरीफ और विदेश मामलों के उनके सलाहकार सरताज अजीज से भी मिलीं।

यह भी पढ़िए  वामपंथियों पर गरजे जेटली, हमेशा ही देशविरोधी रहे हैं कम्युनिस्ट

दोनों देशों के बीच आपसी व्यापार के बढ़ावे को ले कर आने वाले दिनों में अहम फैसले हो सकते हैं! अब देखना है कि मोदी की इस यात्रा रिश्तों में जमी बर्फ को किस हद तक पिघला पाएगी !

मोदी के पाकिस्तान दौरे पर भारत में राजनीति शुरू हो गई है. कांग्रेस ने इस दौरे को पूर्वनियोजित बताया है और इस तरह इसे छुपाने की आलोचना की है। वहीँ भाजपा ने इस दौरे को आज सुबह ही तय बताया है।

गौरतलब हो कि मोदी आज अचानक दो घंटे के लिए पाकिस्तान पहुंचे। हवाई अड्डे पर नवाज शरीफ ने नरेंद्र मोदी की अगवानी की और फिर नरेंद्र मोदी और नवाज शरीफ नवाज के हेलीकॉप्टर में बैठ कर उनके पैतृक शहर पहुंचे जहाँ पर नवाज शरीफ की नातिन की शादी (निकाह) के फंक्शन में शामिल हुए। उन्होंने सभी मेहमानों से गर्मजोशी से हाथ मिलाया और नवाज शरीफ की माँ के पैर छू कर आशीर्वाद माँगा।

यह भी पढ़िए – ‘मंदिर के लिए अगर पत्थर आएगा तो मस्जिद के लिए भी पत्थर मंगाकर तराशेंगे’

भाजपा ने आज २५ दिसंबर को इस विजिट को ऐतिहासिक करार दिया है। ज्ञात हो कि आज २५ दिसंबर को पूर्व भारतीय प्रधानमंत्री और भाजपा के शीर्ष नेता अटल बिहारी बाजपेयी का जन्म दिन भी है। संयोग यह कि आज नवाज शरीफ का भी जन्म दिन है।

कांग्रेस और अन्य विपक्षी पार्टियों ने इस मुलाक़ात पर तीखी टिप्पणी की है। कुछ विपक्षी नेताओं ने यहाँ तक कह डाला कि प्रधान मंत्री को पाकिस्तान दौरे से रिटर्न गिफ्ट में दाऊद और हाफ़िज़ सईद को लेकर आना चाहिए था।

यह भी पढ़िए  कैश रहित अर्थव्यवस्था लाना चाहते हैं प्रधान मंत्री मोदी - वेंकैया नायडू