Kya Hoga Chandra-Grahan Ka Apki Raashi Par Asar

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार ग्रहों का हमारे जीवन पर खासा असर होता है। कौन सा ग्रह किस राशि चिह्न में प्रवेश कर रहा है, किस राशि का स्वामी है एवं किस राशि को कैसा प्रभाव दे रहा है यह जानना बेहद जरूरी होता है। यह असर सकारात्मक होगा या नकारात्मक, यह ज्योतिष के माध्यम से जाना जा सकता है।

ज्योतिष की दृष्टि से सूर्य एवं चंद्रमा, दोनों ग्रहों को बेहद महत्वपूर्ण माना गया है। इनके विशेष राशि में हुए स्थानांतरण के अलावा, ग्रहण लगने पर राशियों पर क्या-क्या असर होगा, इसके बारे में भी ज्योतिष से पता लगाया जा सकता है। जानिए यह ग्रहण किन राशियों को कैसा परिणाम देता है।Kya Hoga Chandra-Grahan Ka Apki Raashi Par Asar

मेष यह ग्रहण आपके छठे भाव में लगने के कारण आपके स्वास्थ्य पर सीधा प्रभाव डालेगा। यदि आप किसी मानसिक समस्या से जूझ रहे हैं तो इस समय उसके बढ़ने के आसार है। चिंता और अवसाद आपको घेरे रहेगा। जहां यह चन्द्र ग्रहण आपके लिए मानसिक कष्ट ला सकता है वहीं आर्थिक दृष्टि से बहुत लाभप्रद भी रहेग। पुराने चले आ रहे कर्जों से छुटकारा मिलेगा और शत्रुओं का नाश होगा, साथ ही आर्थिक लाभ के भी योग बने हुए हैं।

वृषभ – चन्द्र ग्रहण का योग आपके पंचम भाव में बन रहा है। वृषभ राशि के जातकों के लिए चन्द्रमा पराक्रम का कारक माना जाता है, आपके मन मस्तिष्क के लिए यह स्थिति ठीक नहीं है। मन द्वन्द में रहेगा। निर्णय क्षमता कमज़ोर रहेगी। आर्थिक मामलों में निर्णय लेने से आप घबराएंगे। मन सशंकित रहेगा। यदि आप शिक्षा प्रतियोगिता में बैठने जा रहे हैं तो अपने प्रयासों को और बढ़ाने के आवश्यकता है। मेहनत से आप घबराएंगे और आलस आप पर हावी रहेगा। आपकी बहनों को स्वास्थ्य से सम्बंधित समस्या आ सकती है। किसी करीबी मित्र के कारण मानसिक कष्ट भी उत्त्पन्न हो सकता है।

यह भी पढ़िए  किस्मत बदलनी है तो बदलिए अपने जूते, जानिये क्यों?

मिथुन – यह योग आपके चतुर्थ भाव में बन रहा है। मिथुन राशि के जातकों के लिए चन्द्रमा लाभ का कारक है। पारिवारिक सुख में कमी आएगी। यदि आप ह्रदय रोगी हैं तो विशेष सावधानी की आवश्यकता पड़ेगी। मन आशंकित रहेगा। अनजाने भय से आप डरे रहेंगे । अपने करीबी मित्रों या सम्बन्धियों के साथ समय बिताएं या अपने कार्यों में व्यस्त रहकर आप अपने अकारण और अकल्पनीय भय का अंत कर सकते हैं।

कर्क – यह योग आपके तीसरे भाव में बनेगा। चन्द्रमा आपके लग्न का स्वामी है । चन्द्र ग्रहण के कारण इस समय चन्द्रमा पीड़ित रहेगा अतः आपको मानसिक कष्ट हो सकता है। आपको अपने करीबी मित्रों या भाई बहनों से विछोह की स्थिति आ सकती है या किसी प्रकार के विवाद की स्थिति उत्पन्न होने की संभावना रहेगी। निर्णय क्षमता कमज़ोर रहेगी। योग प्राणायाम से अपने मन मस्तिष्क को संयमित रखे। प्रसन्न रहें तथा नियमित अंतराल में जल ग्रहण करते रहें।

सिंह – सिंह राशि के जातकों के लिए यह योग दूसरे भाव में बन रहा है। चन्द्रमा आपके व्यय भाव का स्वामी है। व्यव भाव के स्वामी का लाभ स्थान पर आना और ग्रहण दोष भी हो तब ऐसी स्तिथि में धन की हानि निश्चित है। आर्थिक मामलों में सचेत रहें। धन के मामलों में कोई भी निर्णय लेने से पहले सोच विचार लें और परामर्श लेने से भी न हिचकिचाएं। सुदूर यात्राओं से बचें क्योंकि यह यात्राएं थका देने वाली एवं निरर्थक रहेंगी।

कन्या – सूर्य और बुध की सीधी दृष्टि पड़ने के कारण कन्या राशि के जातकों पर इस चन्द्र ग्रहण का प्रभाव बहुत अधिक नहीं पड़ने वाला है। स्वास्थ्य के मामले में कुछ कठिनाई आ सकती है। यदि आप किसी शारीरिक कष्ट के कारण दवा ले रहें हैं तो वह शीघ्र असर नहीं करेगी। आपकी शारीरिक प्रतिरोधक क्षमता इस समय कम रहेगी। स्वास्थ्य को यदि छोड़ दिया जाये तो चन्द्र ग्रहण आपके लिए किसी भी प्रकार से प्रभावी नहीं रहेगा।

यह भी पढ़िए  आपके दांतों के गैप के बारे में क्या कहता है ज्योतिष शास्त्र

तुला – चन्द्र ग्रहण आपके सामाजिक मान प्रतिष्ठा पर प्रभाव डालेगा। मान सम्मान में कमी या कोई लांछन लगने का भी भय हो सकता है। किये गये कार्यों में मेहनत के अनुरूप फल प्राप्त नहीं होगा। पदोन्नति में विलम्ब होगा या आपकी इच्छा के अनुरूप नहीं होगी। कार्यक्षेत्र में उच्च अधिकारियों से विवाद इस समय संभव है। इच्छानुसार सफलता पाने के लिए अपने प्रयासों को और बढ़ा दें।

वृश्चिक – चन्द्रमा वृश्चिक राशि के जातकों के भाग्य का मालिक है। भाग्य के मालिक का ग्रहण में होना भाग्य पक्ष को कमज़ोर करता है। भाग्य भरोसे कोई भी कार्य प्रारम्भ न करे। आर्थिक मामलों में संभल कर रहें । नए कार्यों में भी सोच समझ कर हाथ डाले। भूमि भवन से जुड़े निवेश भी लाभप्रद नहीं रहेंगे। यह समय आर्थिक मामलों के लिए संवेदनशील है अतः सावधान रहें।

धनु – धनु राशि के जातकों के लिए आर्थिक रूप से यह समय शुभ सूचना लायेगा। पुरानी चली आ रही बीमारी समाप्त होगी। शत्रुओं का नाश होगा। अचानक धन लाभ के कारण उत्साह में वृद्धि होगी। निर्णय लेने में जल्दबाजी न करे। अति उत्साह में गलत निर्णय लेने के कारण आर्थिक हानि होने की संभावना बनेगी। कार्यक्षेत्र में उच्च अधिकारीयों से मतभेद की स्थिति उत्पन्न हो सकती है। गहरे पानी या जलीय जंतुओं से दूरी बनाये रखें।

मकर – इस चन्द्र ग्रहण के कारण भाग्य पक्ष कमज़ोर रहेगा। आपको अपने जीवन साथी के स्वस्थ्य के प्रति सचेत रहने की आवश्यकता है क्योंकि इसके कारण आपको मानसिक कष्ट उठाना पड़ सकता है। यदि आप कार्य व्यापार साझेदारी में कर रहे हैं तो वहां भी यही समस्या आ सकती है। साझेदारों के स्वास्थ्य के कारण आपको समस्या झेलनी पड़ सकती है। यह समय आपके लिए बहुत लाभकारी नहीं रहेगा अतः अपने आपको संतुलित एवं स्थिर रखने का प्रयास करें।

यह भी पढ़िए  रिंग फिंगर से ही क्यों लगाया जाता है तिलक?

कुम्भ – यह चन्द्र ग्रहण आपके अष्टम भाव में लगेगा, इस कारण यह समय आपके लिए अत्यधिक लाभप्रद रहेगा। अकस्मात धन लाभ के योग बनेंगे। कहीं से अकल्पनीय धन आगमन होगा। पुराने चले आ रहे रोग समाप्त होंगे। शत्रुओं का नाश होगा। आय के नए मार्ग खुलेंगे। यदि आप समुद्री यात्राएं करते हैं तो थोड़ा सतर्क रहें। गहरे पानी या जलीय जंतुओं से दूरी बनाये रखें।

मीन – चन्द्र ग्रहण आपके सप्तम भाव में लगेगा जो कि आपके प्रेम संबंधों के लिए बहुत ही हानिकारक है। जीवन साथी या प्रेमी से मन मुटाव की संभावना रहेगी। वैचारिक मतभेद बढ़ेंगे। यदि पहले से ही कोई विवाद चला आ रहा है तो रिश्ता टूटने तक की स्थिति पैदा हो सकती है। संबंधों को बिगड़ने न दें। जितना हो सके संयम और प्रेमपूर्वक विवादों को सुलझाने का प्रयत्न करें। धैर्य से स्थिति को संभालें। अपने बच्चों के स्वास्थ्य के बारे में भी सचेत रहें। यदि आप शिक्षा प्रतियोगिता में बैठने जा रहे हैं तो अपने प्रयासों को और बढ़ाने की आवश्यकता है।