कराची / दिल्ली: कहते हैं खेल को राजनीति से अलग रखना चाहिए और उन्हें केवल खेल भावना से ही खेल जाना चाहिए। किन्तु भारत और पाकिस्तान के बीच कुछ भी हो, चाहें खेल, साहित्य या फिर संगीत, राजनीति आ ही जाती है। ताजा मामला पाकिस्तान क्रिकेट टीम के कप्तान शाहिद अफरीदी के बयान का है। पाकिस्तान के पूर्व क्रिकेटर जावेद मियांदाद ने टीम के कप्तान शाहिद अफरीदी के उस बयान की कड़ी आलोचना की है जिसमें उन्होंने पाकिस्तान से ज्यादा पड़ोसी देश भारत में प्यार मिलने की बात कही थी। मियादांद के अलावा लाहौर कोर्ट ने अफरीदी को इस मामले में 15 दिन के अंदर जवाब देने को कहा है। गौरतलब है कि अफरीदी के इस बयान पर पाकिस्तान के एक वकील ने आपत्ति जताते हुए लाहौर कोर्ट में याचिका दायर की थी।

Controversy - Afridi says he got more love in India than pakistanदरअसल एक सप्ताह से ज्यादा समय तक पाकिस्तान क्रिकेट टीम के भारत दौरे को लेकर ऊहापोह की स्थिति  बने रहने के बाद आखिर धर्मशाला की जगह कोलकाता में मैदान बदलने के बाद पाकिस्तान की टीम भारत आई है। भारी राजनीतिक उथलपुथल के बाद आईसीसी टी-20 वर्ल्ड कप में हिस्सा लेने शनिवार रात को कोलकाता पहुंची पाकिस्तान क्रिकेट टीम के कप्तान शाहिद अफरीदी ने रविवार को एक संवाददाता सम्मेलन में कहा था कि भारत के लोगों से उन्हें जितना प्यार मिला है इतना प्यार तो पाकिस्तान में भी नहीं मिला। इतना कहने की देर थी की पाकिस्तान में उनके इस बयान पर तूफ़ान आ गया और फैंस का पारा चढ़ गया . कई क्रिकेट फैंस ने यहां तक कहा कि यदि अफरीदी को भारत के लोगों से इतना प्यार है तो उन्हें भारत में ही रह लेना चाहिए।

यह भी पढ़िए  आजम खान - मैं तो साध्वी प्राची से प्यार करता हूं, पर RSS से डरता हूं

आग में घी का काम किया पूर्व पाकिस्तान टीम के कप्तान जावेद मियांदाद ने. जावेद मियांदाद ने सोमवार को एक टीवी शो के दौरान कहा, अफरीदी को ऐसे बेकार के बयान देते समय सावधानी बरतनी चाहिए। ऐसे बयान देने के लिये इन क्रिकेटरों को शर्म आनी चाहिए। अफरीदी शर्म करो। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान टी-20 विश्वकप खेलने के लिये भारत गया है लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि खिलाडिय़ों को मेजबान देश का गुणगान करना चाहिए।

उन्होंने कहा, भारतीयों ने अब तक हमें दिया क्या है। पिछले पांच सालों में उन्होंने पाकिस्तान क्रिकेट के लिये क्या किया है। मैं इस बात से बेहद हैरान और दुखी हूं कि हमारे खिलाड़ी ऐसे बयान दे रहे हैं। टीम का काम है कि वह भारत जाकर अच्छा क्रिकेट खेले न कि ऐसे अनावश्यक बयान दे। पाकिस्तान क्रिकेट को इस मामले पर संज्ञान लेना चाहिये।

अफरीदी के बयान पर आपत्ति जताने में सिर्फ मियांदाद ही नहीं, अन्य कई पूर्व क्रिकेटर भी शामिल हो गए.  पाकिस्तान के पूर्व टेस्ट बल्लेबाज और मुख्य कोच मोहसिन खान ने भी अफरीदी और शोएब मलिक के भारत-प्रेम वाले बयान पर हैरानी व्यक्त की है। उन्होंने कहा, वे टीम के वरिष्ठ खिलाड़ी हैं और उन्हें मीडिया के सामने दिये गये ऐसे बयान से बचना चाहिये। खासकर तब जब टीम भारत दौरे पर हों।

इतना तय है कि ये तूफ़ान अभी थमने वाला नहीं है. खासकर पाकिस्तान टीम के फॉर्म को देखते हुए पाकिस्तान के भारत से जीतने की आसार बहुत काम हैं. ऐसे में यह भी हो सकता है की पाकिस्तान टीम के हरने की सूरत में अफरीदी की कप्तानी ही न चली जाये.

यह भी पढ़िए  आजम खान - मैं तो साध्वी प्राची से प्यार करता हूं, पर RSS से डरता हूं