अपने विवादित बयानों से सुर्खियों में रहने वाले भारतीय जनता पार्टी के नेता सुब्रमण्यन स्वामी को कानपुर में कांग्रेसी कार्यकर्ताओं के जबरदस्त विरोध का सामना करना पड़ा. दरअसल कांग्रेसी कार्यकर्ता पिछले दिनों सुब्रमण्यन स्वामी द्वारा सोनिया गांधी और राहुल गांधी के बारे में दिए गए बयानों से नाराज थे. कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने सुब्रमण्यन स्वामी की कार पर अंडे टमाटर और कूड़ा भी फेंका.  सुब्रमण्यन स्वामी को काले झंडे भी दिखाए गए और उनके खिलाफ जोरदार नारेबाजी हुई. कांग्रेसी कार्यकर्ताओं का हंगामा इतना बढ़ गया कि स्थिति को कंट्रोल करने के लिए पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा जिस में बहुत से कांग्रेसी नेता घायल हुए

Congres worker oppose subramanian swami in kanpur terrorist leader of bjpकांग्रेस के कानपुर नगर अध्यक्ष हर प्रकाश अग्निहोत्री ने आज की घटना पर बयान देते हुए कहा कि कानपुर के कांग्रेसी बहुत दिनों से भाजपा के इस आतंकवादी नेता सुब्रमण्यन स्वामी का विरोध करना चाहते थे.  शनिवार को हमें इसका मौका मिल गया. उन्होंने कहा कि  सुब्रमण्यन स्वामी भाजपा के आतंकवादी नेता हैं और उन्हें जब भी मौका मिलता है सोनिया गांधी और राहुल गांधी पर झूठी और गैर जिम्मेदाराना बयान बाजी करते रहते हैं.  स्वाभाविक है कि हमारे सम्माननीय नेताओं के ऊपर कीचड़ उछालने वाले का हम लोग फूलों से स्वागत तो नहीं करेंगे, उसका विरोध ही करेंगे.

सुब्रमण्यन स्वामी कानपुर के वीएसएसडी कॉलेज में एक सेमिनार में शामिल होने गए थे जहां जाते समय कंपनी बाग चौराहे पर कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने काले झंडे के साथ विरोध प्रदर्शन किया

आपको बता दें कि भाजपा नेता सुब्रमण्यन स्वामी कांग्रेस और विशेषकर सोनिया गांधी के खिलाफ अपने तल्ख़ बयानों और विरोध के लिए चर्चा में रहते हैं.  साथ ही उन्होंने नेशनल हेरोल्ड केस में सोनिया गांधी और राहुल गांधी के खिलाफ केस दर्ज करवाया हुआ है जो कांग्रेस के गले की हड्डी बना हुआ है. नेशनल हेराल्ड केस में सुब्रमण्यन स्वामी का आरोप है सोनिया गांधी और राहुल गांधी ने कुछ और कांग्रेसी नेताओं और अपने मित्रों के साथ मिलकर नेशनल हेराल्ड की  5 हजार करोड़ से ज्यादा की संपत्ति घोटाले से हथिया ली. यह केस मीडिया में इतना उछला कि सोनिया गांधी और राहुल गांधी की काफी फजीहत हुई और उन्हें जुर्माना भी भरना पड़ा.

यह भी पढ़िए  मुंबई कांग्रेस के मुखपत्र "कांग्रेस दर्शन" में छपे लेख से बवाल। पटेल थे नेहरू से बेहतर, सोनिया के पिता थे फासीवादी

सुब्रमण्यन स्वामी अभी हल ही में भी चर्चा में थे जब उन्होंने जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी के छात्रों और शिक्षकों को नक्सलवादी बताया था.  उन्होंने कहा था कि JNU में नक्सलवादी, जिहादी और आतंकवादी रहते हैं.  JNU के छात्रों से मिलने जाने पर उन्होंने राहुल गांधी पर भी बड़े तीखे कमेंट किए थे.  तब से ही सुब्रमण्यन स्वामी कांग्रेसी नेताओं के निशाने पर थे और आज मौका मिलने पर कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने कानपुर में स्वामी का जबरदस्त विरोध किया