दिल्ली में हर तीसरे व्यक्ति का फेफड़ा प्रदूषण के कारण बीमार

दिल्ली में ऑड-इवन योजना १५ तारीख से समाप्त हो गई है . हालांकि मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने कहा कि हम चाहते हैं कि दिल्ली वासी इस योजना को जारी रखें. सरकार द्वारा ऑड-इवन के खिलाफ चलती गाड़ियों पर दो हजार रुपये का फाइन तो अब नहीं लगेगा किन्तु यदि जनता अपने फायदे और पर्यावरण की बेहतरी के लिए इस ऑड-इवन स्कीम को जारी रखे तो दिल्ली के लिए अच्छा होगा. इस बीच एक बड़ी चौंकाने वाली बात निकल कर आई है जो दिल्ली वासियों के स्वास्थ्य से जुडी है. ऑड-इवन स्कीम के दिल्ली में लागू होने के साथ ही डॉक्टर्स के एक टीम ने दिल्ली निवासियों के फेफड़ों की जांच का अभियान भी शुरू किया था ताकि प्रदूषण और वाहनों के धुंए आदि का प्रभाव जांचा जा सके. इस जांच में जो आंकड़े निकल कर सामने आएं हैं वे बेहद सीरियस और दिल दहलाने वाले हैं.

Pollution in delhiइस स्टडी के अनुसार दिल्ली में हर तीसरे व्यक्ति का फेफड़ा प्रदूषण के कारण बीमार और बेकार हो चुका है और उन्हें इलाज की सख्त जरूरत है . इस अभियान के दौरान 3019 व्यक्तियों के फेफड़ों की जाँच की गई जिसमें पाया गया कि 1037 लोगों के लंग्स इस कदर पभावित हैं की उन्हें फ़ैल करार दिया जा सकता है . साफ़ है दिल्ली की आबो-हवा इस कदर Polluted हो चुकी है कि दिल्ली वासी जहर घुली हवा में सांस लेने को मजबूर हैं और इस तरह से धीमी मौत का शिकार बनते जा रहे हैं .

इस अभियान का नेतृत्व कर रही मौलाना आज़ाद मेडिकल कालेज की डाक्टर सुनीता गर्ग के अनुसार मोबाइल वाहन द्वारा इस जांच अभियान को संचालित किया गया. प्रारम्भ में तो लोगों ने इस के प्रति बेरुखी दिखाई.  धीरे धीरे लोग अपना चेकअप कराने लगे . इस जांच में स्पाइरोमेटर नामक यंत्र का उपयोग किया गया जिसमें 70% या कम लंग फंक्शन पाया जाने पर आगे जांच कराने की सलाह दी गई है .

यह भी पढ़िए – ODD-Even का विरोध करने वालों को सुप्रीम कोर्ट की फटकार

स्पष्ट है कि दिल्ली में प्रदूषण की स्थिति भयावह होती जा रही है और ऐसे में सिर्फ ऑड-इवन जैसी वाहन नियंत्रण स्कीम की ही नहीं बल्कि बड़े कदम उठाने की जरूरत है .

गौमांस के शक में मुस्लिम दंपत्ति से मारपीट, इलाके में तनाव

लोग अभी दादरी कांड को भूले भी नहीं हैं और गौ-मांस को लेकर एक और मामला सामने आ गया है जिसमें एक मुस्लिम दंपत्ति से ट्रैन में गौ-मांस रखने के शक में मारपीट की गई है . मामला मध्यप्रदेश का है . बताया जा रहा है कि मुहम्मद खान और नसीमा बानो नामक दंपत्ति कुशीनगर एक्सप्रेस में हैदराबाद से हरदा लौट रहा था जब उंसके साथ ये घटना घटित हुई . मुहम्मद खान के अनुसार कुछ लोगों ने उनके साथ जबरन सीट खाली करने का दबाव बनाया . मना करने अगले स्टेशन पर १०-१५ लोगों की भीड़ ने उन पर हमला कर दिया . मुहम्मद खान ने कहा कि उनकी पत्नी को भी नहीं बख्शा और मारपीट कर टॉयलेट में धकेल दिया.

beef controversy again in Indiaउन लोगों ने शोर मचाया कि हमारे पास गौ-मांस है और एक थैले में मांस हमारे पास रख दिया जो थैला हमारा नहीं था . उस मांस को ही गौमांस बता कर हमलावरों ने, जो कि खुद को गौरक्षा समिति और बजरंग दल का सदस्य बता रहे थे, हमारे साथ मार पीट की .

बात बढ़ने पर मुहम्मद खान ने भी फोन करके अगले स्टेशन पर अपने साथियों को बुला लिया और स्टेशन पर दोनों गुटों में जम कर मार पीट हुई .

पुलिस ने शिकायत मिलने पर हेमंत राजपूत और संतोष नामक दो युवकों को गिरफ्तार किया है . अन्य ८-१० लोगों को भी गिरफ्तार किया गया था लेकिन बाद में उन्हें जमानत पर रिहा कर  दिया गया .

खिरकिया पुलिस के मुताबिक़ थैले में भैंस का मीट था जिसकी पुष्टि लैब की जांच में हो गई है.

मामले में पीड़ित दंपत्ति के रिश्तेदारों के खिलाफ भी मारपीट का मामला दर्ज होने से इस मामले ने राजनीतिक रंग ले लिया है और यह मामला तूल पकड़ता जा रहा है.

याद रहे कि गौमांस को लेकर हुए विवाद में पिछले दिनों एक मुस्लिम अखलाक़ की दादरी में मार मार कर ह्त्या कर दी गई थी. यह विवाद हफ़्तों में सुर्ख़ियों में बना रहा था .

अरविन्द केजरीवाल छुट्टी लेकर इलाज करवाने बेंगलुरु जाएंगे, खांसी से हैं परेशान

नई दिल्ली: देश वासियों और खास कर दिल्लीवासियों के बीच अरविन्द केजरीवाल का जिक्र हो तो केजरीवाल की मफलर बांधे हुए तस्वीर ही जहाँ में आती है. यहाँ तक कि सोशल मीडिया पर इसको लेकर कार्टून और ट्रोल भी बन चुके हैं. लेकिन हक़ीक़त यह है अरविन्द केजरीवाल का मफलर उनका फैशन स्टेटमेंट नहीं है बल्कि उनकी मजबूरी है. दरअसल अरविन्द केजरीवाल सर्दी-खांसी से ग्रस्त रहते हैं और इस बार तो उनकी खांसी हद से ज्यादा बढ़ गई है. यहाँ तक कि उन्हें इसके इलाज के लिए ऑफिसियल कामकाज से छुट्टी लेकर १० दिन के लिए बेंगलुरु जाना पड़ रहा है.

Arvind Kejriwal bengaluru cough treatmentखांसी के साथ केजरीवाल का ब्लड शुगर लेवल भी बढ़ा हुआ है और अब वह २२ जनवरी से बेंगलुरु में खांसी और ब्लड शुगर का प्राकृतिक इलाज करवाने के लिए छुट्टी पर जा रहे हैं .

सूत्रों का कहना है कि अरविन्द केजरीवाल को २२ दिसंबर को ही अपना इलाज करवाने बेंगलुरु जाना था किन्तु दिल्ली में ट्रैफिक कि ऑड-ईवन स्कीम को लागू करने के चलते उन्होंने इसे एक महीने के लिए टाल दिया.

इससे पहले मार्च के महीने में भी सीएम केजरीवाल अपने इलाज के लिए बेंगलुरू गए थे. उनकी तबीयत में काफी सुधार भी आया था लेकिन बढ़ती सर्दी, और काम के बोझ और तनाव से उनकी ब्लड शुगर फिर अनियंत्रित हो गई है . ऊपर से खांसी ने उन्हें बेहद परेशान किया हुआ है .

ऐसा माना जा रहा है कि उनकी अनुपस्थिति में मनीष सिसोदिया दिल्ली सरकार का कार्यभार संभालेंगे .

खिलौनों के बजाये टेंशन से खेला हूँ – अफजल गुरू का बेटा

नई दिल्ली: संसद हमले में फांसी की सजा पा चुके अफ़ज़ल गुरू के बेटे का दसवीं की परीक्षा में शानदार प्रदर्शन किया है. गालिब गुरु को दसवीं में 95 फीसदी नंबर मिले हैं. जम्मू कश्मीर बोर्ड की परीक्षा गालिब को 500 में से कुल 474 अंक मिले हैं. सभी पांच विषयों में गालिब को ए वन ग्रेड मिले हैं. गालिब सोपोर के एसआरएम वेल्किन स्कूल में पढ़ता है. गालिब के पिता अफजल गुरु को फरवरी 2013 में फांसी दी जा चुकी है.

गालिब ने मीडिया से बात करते हुए कहा, ”मैंने बचपन से टेंशन देखीं. आम बच्चों के हाथ में बचपन में खेलने के लिए खिलौने होते हैं. मैंने अपने बचपन में अपने आस पास टेंशन देखी.”

 

अपने पिता के बारे में बताते हुए गालिब कहता है, ”मेरे पिता ने 13 साल जेल में गुजारे. मैं उनसे मिलने जाता था. मुझे पता नहीं था कि वो वहां क्यों हैं. मुझे लगता था कि जैसे टीवी सीरियलों में दिखाते हैं ऐसे ही किसी को मारा होगा इसीलिए जेल में हैं. बाद में न्यूज देख कर पता चला कि संसद हमले की साजिश में उन्हें जेल में रखा गया है.”

गालिब आगे बताता है, ”इस पूरे वाक्ये ने मुझे कुछ अलग करने के लिए प्रेरित किया. मैं अब डॉक्टर बनना चाहता हूं. लोगों की खिदमत करना चाहता हूं.

अपने पिता के बारे में बात करते हुए गालिब कहता है, ”मेरे पिता कहते थे कि नमाज़ पढ़ों. जब भी मुझे पिता की याद आती है मैं नमाज़ पढ़ता हूं. मेरे पिता मुझे इस्लामिक स्कॉलर बनना चाहते थे.”

गालिब अपनी मां के बारे में भी बताता है. गालिब कहता है, “मेरी मां मुझे डॉक्टर बनाना चाहतीं हैं. मेरी मां अक्सर अब्बू को याद करके रोतीं हैं. मैं उनसे भी नमाज पढ़ने के लिए कहता हूं. हमें खुदा की इबादत करनी है और दुनिया जीतनी है

Saabhar- ABP News

२० डॉलर से नीचे आ जाएगी कच्चे तेल की कीमत, अच्छे दिनों की होगी शुरुआत?

चारों तरफ से आ रही नकारात्मक खबरों के बीच आज भारत की अर्थव्यवस्था के लिए एक अच्छी खबर आई है।  मशहूर अमेरिकी बैंक मॉर्गन स्टैनली ने आज सुबह कहा कि क्रूड आयल का रेट 20 डॉलर पर बैरल से भी नीचे जा सकता है।  बैंक ने इसके पीछे चीन की अर्थव्यवस्था में आई भारी गिरावट को कारण बताया है।

२० डॉलर से नीचे आ जाएगी कच्चे तेल की कीमतबैंक के अनुसार इरान पहले ही अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की एक्स्ट्रा सप्लाई कर रहा है. ऐसे में कच्चे तेल की कीमतों में संभावित गिरावट पहले से ही हो रही कच्चे तेल की ज्यादा सप्लाई को और अधिक बढ़ा देगी ।   इस तरह से बैंक का यह अनुमान कि जल्द ही अंतर्राष्ट्रीय बाजार में क्रूड आयल  की कीमतें 20 डॉलर ऊपर प्रति बैरल से नीचे जा सकती हैं,  सही होता नजर आ रहा है

बैंक ने यह भी कहा कि अमेरिका डॉलर की कीमत जैसे नॉन फंडामेंटल कारणों से भी कच्चे तेल की कीमतें तय होगी और चीन की अर्थव्यवस्था में गिरावट कच्चे तेल की कीमत को तय करने वाला एकमात्र कारक नहीं है।

बैंक के एनालिस्ट ने कहा जैसे-जैसे अमेरिकी डॉलर में मजबूती आ रही है वैसे वैसे कच्चे तेल की कीमत नीचे जा सकती है।  बैंक ने कहा डॉलर में मजबूती आने के कारण कच्चे तेल की कीमत 20 से 25 डॉलर बैरन प्रति बैरल  कम हो सकती है।

बैंक ने अनुमान दिया है कि 2016 में ब्रेंट की एवरेज प्राइस 49 डॉलर प्रति बैरल के आसपास रहेगी। कच्चे तेल की कीमतों में भारी गिरावट के कारण सोने की कीमतों में तेजी आई है और इस वजह से सोने की मांग में भी बढ़ोतरी आई है।

सोने की कीमतों में इस साल चार प्रतिशत से ज्यादा वृद्धि हो चुकी है और सोना अब 26 हजार रुपए प्रति 10 ग्राम के आसपास बिक रहा है।  बीते सप्ताह में सोने ने सबसे बेहतर परफॉर्मेंस किया है।  ऐसा होने का बड़ा कारण दुनिया भर के बाजारों में आया उतार चढ़ाव और मध्य पूर्व एशिया में उत्पन्न सामरिक तनाव की स्थिति  है।  दूसरी तरफ चांदी की कीमतों में गिरावट का कारण ओद्योगिक इस्तेमाल में इसकी डिमांड में आई कमी को बताया जा रहा है।

भारतीय अर्थव्यवस्था के सन्दर्भ में देखें तो कच्चे तेल की कीमतों आई ये भारी गिरावट अर्थव्यवस्था के लिए अच्छे दिनों की शुरुआत का संकेत दे रही हैं।  ऐसा होने के पीछे सबसे बड़ा कारण यह है कि भारत में  बड़ा योगदान कच्चे तेल के आयात का है।

अफ़ज़ल गुरू के बेटे का दसवीं की परीक्षा में शानदार प्रदर्शन

भारतीय संसद पर हमले की साज़िश के दोषी अफ़ज़ल गुरू के बेटे ग़ालिब गुरू ने दसवीं की परीक्षा में शानदार प्रदर्शन किया है.

galib guru

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, ग़ालिब गुरू ने जम्मू कश्मीर बोर्ड की परीक्षा में 500 में से 474 अंक हासिल किए हैं.

रविवार रात घोषित किए गए परीक्षा नतीजों के अनुसार ग़ालिब गुरू को सभी पांच विषयों में ए-1 ग्रेड मिली है.

ग़ालिब के पिता अफ़ज़ल गुरू को संसद हमले का दोषी पाया गया था जिसके लिए उन्हें 9 फरवरी 2013 को मौत की सज़ा दी गई थी.

भारतीय संसद पर चरमपंथियों ने 13 दिसंबर 2001 को हमला किया था.

सोशल मीडिया पर इस बात की सराहना की जा रही है कि ग़ालिब गुरू ने मुश्किल हालात के बावजूद मन लगाकर पढ़ाई की और अच्छे नंबर हासिल किए.

साभार – बीबीसी 

प्रदूषण पर अब शिवराज सिंह की सरकार करेगी केजरीवाल का अनुसरण

बढ़ते प्रदूषण से चिंतित मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अब केजरीवाल सरकार की राह चलने का मन बना लिया है!

Madhya Pradesh CM Shiraj Singh Chauhan

शिवराज ने वाहन प्रदूषण कम करने, वाहनों के कार्बन उत्सर्जन की नियमित जांच कराने, सप्ताह में एक दिन वाहन का उपयोग न करने, लोक परिवहन का ज्यादा से ज्यादा उपयोग करने, प्रदूषण फैलाने वाले वाहनों की सूचना परिवहन अधिकारी या सक्षम अधिकारी को देने और यातायात के नियमों का पालन करने का संकल्प दिलवाया।

वहीं, राज्य के परिवहन मंत्री भूपेंद्र सिंह ने कहा कि राज्य सरकार वाहनों से होने वाले प्रदूषण में कमी लाने के लिए प्रयासरत है. हम भी सार्वजानिक वाहनों के प्रयोग को बढ़ावा देना चाहते हैं.


Must Read: दिल्ली सरकार शुरू करेगी प्रथम श्रेणी की प्रीमियम बस सेवा, जानिए क्या होंगी सुविधाएं


इसी दिशा में भोपाल से इंदौर तक अब प्रतिदिन 24 वाल्वो बस का संचालन हो रहा है। इससे इस मार्ग पर चलने वाली टैक्सियों में कमी आई है। जो कि एक सार्थक परिणाम है!

इससे पहले महाराष्ट्र ने भी केजरीवाल सरकार की ODD-Even योजना की तारीफ करते हुए इसे अपनाने की बात कही थी!

IIT का टॉपर भारतीय छात्र अमेरिका के हॉस्टल रूप में मृत पाया गया

नई दिल्ली (9 जनवरी) :IIT हैदराबाद का टॉपर छात्र अमेरिका के हॉस्टल में मृत पाया गया. मृत्यु के कारणों का अभी पता नहीं लग पाया है. हैदराबाद से आईआईटी का पूर्व टॉपर छात्र अमेरिका में अपने हॉस्टल रूम में मृत मिला है। ये छात्र नॉर्थ कैरोलिना यूनिवर्सिटी स्टेट यूनिवर्सिटी में मास्टर डिग्री की पढ़ाई कर रहा था। शिवाकिरन (ShivaKiran) नाम के इस 25 वर्षीय छात्र का शव उसके हॉस्टल रूम में छत से लटका मिला।

shiva-kiran_

बताया जा रहा है कि शिवाकिरन एमएस कोर्स के पहले सेमेस्टर की परीक्षा में अपने ग्रेड्स से खुश नहीं था और डिप्रेशन में चल रहा था। इसी के चलते कथित तौर पर उसने खुदकुशी कर ली। शिवाकिरण हॉस्टल रूम को दो चीनी छात्रों के साथ शेयर कर रहा था।

कमरे से कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है। लेकिन शिवाकिरन ने दूसरे सेमेस्टर के लिए फीस जमा करवाने के बाद वापस ले ली थी। शिवाकिरन ने अपने परिवार को बताया था कि वो घर वापस आकर दूसरे सेमेस्टर के लिए अच्छी तरह पढाई करना चाहता है।

शिवाकिरन के अंकल ने बताया कि उन्हें तेलुगु एसोसिएशन ऑफ नॉर्थ अमेरिका (Telugu Association of North America) के अधिकारियों से एक फोन कॉल मिला, जिसमें बताया गया कि वो हॉस्टल रूम की छत से लटका मिला। इसके अलावा उन्हें और कोई जानकारी नहीं मिली।

शिवाकिरन ने आईआईटी हैदराबाद (IIT Hyderabad) में इंजीनियरिंग में टॉप करने के बाद उच्च शिक्षा के लिए अगस्त 2015 में अमेरिका का रुख किया था। परिवार शिवाकिरन के शव को घर लाए जाने का इंतज़ार कर रहा है। शिवाकिरन के पिता फॉर्मेसिस्ट हैं और हैदराबाद में सरकारी कर्मचारी हैं।

मनोज तिवारी ने आमिर खान को कहा देशद्रोही, बवाल मचने पर दी सफाई

नई दिल्ली. “अतुल्य भारत” कैंपेन (Incredible India Campaign) से आमिर खान (Amir Khan) को हटाये जाने के विवाद में एक नया चैप्टर जुड़ गया है। बताया जा कि “अतुल्य भारत” अभियान से आमिर खान को हटाये जाने पर संसदीय पैनल की बैठक में हुई चर्चा के दौरान लोकगायक से सांसद बने मनोज तिवारी (Manoj Tiwari) ने आमिर खान को देशद्रोही कह डाला और इस कैंपेन से आमिर खान के हटाये जाने को सही ठहराया। जब बाद में विवाद बढ़ा तो सफाई देते हुए मनोज तिवारी ने कहा कि ये मेरे शब्द नहीं हैं और मेरी बात को तोड़ मरोड़ कर पेश किया जा रहा है।

BJP MP Manoj Tiwari calls Amir Khan Traitor Deshdrohiआपको बता दें कि मनोज तिवारी भोजपुरी कलाकार हैं और इस समय दिल्ली से सांसद हैं। मनोज तिवारी का विवादित बयान ट्रांसपोर्ट, टूरिज्म और कल्चर पर बनी पार्लियामेंट की स्टैंडिंग कमिटी की बैठक के दौरान सामने आया जब विपक्षी दलों के संसद “अतुल्य भारत” से आमिर खान के हटाये जाने को लेकर टूरिज्म सेक्रेटरी से सवाल कर रहे थे। टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार तिवारी ने कहा, “आमिर तो देशद्रोही हैं, अच्छा हुआ जो उन्हें इस कैम्पेन से हटा दिया गया।”

जब तिवारी के इस बयान पर विवाद खड़ा हो गया और बवाल मचने लगा तो मनोज तिवारी सफाई देते नजर आये और उनके सारे तेवर गायब हो गए। उन्होंने सफाई में कहा कि – ”मैंने आमिर खान के लिए कभी देशद्रोही शब्द का इस्तेमाल नहीं किया। अगर किसी अखबार ने यह खबर छापी है तो मैं उसे नोटिस भेजूंगा। मैंने सिर्फ यही कहा कि जो भी व्यक्ति इन्क्रेडिबल इंडिया का चेहरा है, उसे ये नहीं कहना चाहिए कि भारत रहने लायक जगह नहीं है।”

यह भी पढ़िए – आमिर खान का बयान, मुंबई पुलिस ने कहा नहीं घटाई गयी है सुरक्षा

मीडिया में आई खबरों के अनुसार पार्लियामेंट्री मीटिंग में विपक्षी सांसदों ने तिवारी के बयान का जोरदार विरोध किया तो मनोज तिवारी चुप हो गए और बगलें झांकते दिखाई दिए। कांग्रेस और सीपीएम के सांसदों ने टूरिज्म सेक्रेटरी विनोद जुत्शी से आमिर को हटाए जाने पर जवाब मांगा तो जुत्शी ने डिटेल्स देने से इनकार कर दिया। इससे विपक्षी सांसद नाराज हो गए।

साथ ही इस कैंपेन पर आने वाले खर्च का सवाल उठाते हुए सीपीएम सांसद रीताब्रत बनर्जी ने पूछा कि आमिर मुफ्त में कैम्पेन कर रहे थे। अब उनकी जगह जो दूसरा शख्स यह कैम्पेन करेगा, वो कितनी फीस लेगा? कांग्रेस सांसद कुमारी सैलजा और केसी. वेणुगोपाल ने भी यह मुद्दा उठाया। इन सवालों के जवाब में टूरिज्म सेक्रेटरी विनोद जुत्शी चुप हो गए और उनसे कोई जवाब देते नहीं बना। यह भी कहा जा रहा है कि आमिर ने मैक्केन ग्रुप या टूरिज्म मिनिस्ट्री के साथ कोई कॉन्ट्रैक्ट साइन नहीं किया था। वे अपनी मर्जी से इस कैम्पेन से जुड़े थे।

यह भी पढ़िए – आमिर खान हिन्दुस्तान छोड़ कर जाएंगे कहाँ?

ऐसा लगता है कि इनक्रेडिबल इंडिया कैंपेन का यह विवाद जल्दी थमने वाला नहीं है। इसे देखते हुए पीएमओ मामले पर टूरिज्म मंत्रालय से स्टेटस रिपोर्ट मांगी है।

ऐसा बताया जा रहा है कि इसी विवाद के चलते अभिताभ बच्चन (Amitabh bachchan) का नाम फाइनल होने के बावजूद उनके नाम की घोषणा “अतुल्य भारत” कैंपेन ने ब्रांड एम्बेसडर के तौर पर नहीं की जा रही है। कुछ सूत्र यह भी रहे हैं कि अभिनेता अक्षय कुमार का नाम भी संभावित है। गौर तलब हो कि जहाँ आमिर खान असहिस्णुता के मुद्दे पर विवादित बयान देकर आलोचना झेल रहे हैं वहीँ अक्षय कुमार खुल कर पाकिस्तान और आतंकवाद के खिलाफ बोल रहे हैं। अक्षय कुमार तो यहाँ तक बोल चुके है कि पाकिस्तान में घुस कर आतंकी हमलों का बदला लेना चाहिए ।

महेंद्र सिंह धोनी की खिलाफ जारी हुआ गैर जमानती वारंट

Non-Bailable warrant against Dhoni

आँध्रप्रदेश के शहर अनंतपुर की एक कोर्ट ने भारत के क्रिकेटर महेंद्र सिंह धोनी के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी कर दिया है! धोनी पर हिन्दू देवी देवताओं के अपमान तथा हिन्दुओं की भावनाओं को ठेस पहुचने का आरोप लगा है. वर्ष 2013 में धोनी एक पत्रिका की कवर पेज पर हिन्दू देवता की रूप में चित्रित किये गए थे. भगवन विष्णु की अवतार में चित्रित इस पत्रिका की कवर पृष्ठ का शीर्षक था गॉड ऑफ़ गुड डील्स

dhoni non bailable warrant

कोर्ट ने धोनी को 25 फ़रवरी से पहले उपस्थित होने का आदेश दिया है ! फिलहाल धोनी ऑस्ट्रेलिया दौरे पर हैं जहाँ से वह 31 जनवरी को वापस लौटेंगे!

धोनी को यह समन विश्व हिन्दू परिषद के नेता श्याम सुन्दर द्वारा फाइल किये गए पेटिशन के आधार पर मिला है! श्याम सुन्दर ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए बताया कि मैंने धोनी का वह चित्र पत्रिका के मुखपृष्ठ पर देखा जो हिन्दुओं कि भावनाओं को ठेस पहुचाती है !

धोनी के मैनेजमेंट द्वारा दिए गए प्रतिक्रिया रीती स्पोर्ट्स के अरुण पाण्डेय ने ESPN को बताया कि धोनी का इस तस्वीर के साथ कोई वास्ता नहीं है ! उन्होंने ऐसी कोई तस्वीर नहीं खिचाई! और न ही ऐसे किसी तस्वीर के प्रकाशित होने की हमें कोई सूचना है!

धोनी की वकील रजनीश चोपड़ा ने इस वारंट को गलत बताया है. रजनीश की अनुसार हमें इससे पहले कोई भी समन नहीं मिला जिसकी हमने उपेक्षा की हो! तो फिर गैर जमानती वारंट जारी करने का प्रश्न ही नहीं उठता !

धोनी कि यह तस्वीर जिसमें वह भगवन विष्णु की रूप में अवतरित हुए हैं तथा एक हाथ में जूता लिए हैं, ने काफी हो हल्ला मचाया था !