सुषमा स्वराज ने पाकिस्तानी मासूम को दीं धड़कनें

भारतीय इंसानियत का क़द ऊंचा हुआ

परवीन अर्शी

नई दिल्ली। चार महीने के पाकिस्तानी बच्चे रोहन को नहीं पते उसके दिल में जो धड़क रही हैं उन धड़कनों में भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज की कोशिशों का नेक जज़्बा है. इस जज़्बे को सलाम करने दोनों मुल्कों के करोड़ों हाथ भी दुआएं करें तो अक़ीदत कम नहीं होगी. बहरहाल नोएडा के जेपी हॉस्पिटल में पाकिस्तान के एक बच्चे के दिल का सफल ऑपरेशन हुआ है. बच्चे के दिल में मल्टिपल सुराख़ थे और जो काफ़ी बड़े थे लेकिन हिंदुस्तानी डॉक्टरों ने अपनी जी तोड़ कोशिशों से मासूम रोहन को ज़िंदगी अता कर भारतीय इंसानियत का क़द ऊंचा किया है.

सुषमा ने दिलाया मेडिकल वीजा
सुषमा स्वराज के हस्तक्षेप के बाद रोहन के परिवार को इलाज के लिए वीजा मिला था। मंगलवार को जब स्वस्थ बच्चे को डिस्चार्ज किया गया तो पिता कँवल सिद्दीक़ी रो पड़े। उन्होंने कहा अपने बच्चे को ठीक करने के लिए यूएई के कई बड़े अस्पतालों में चक्कर लगाए थे,लेकिन भारत में आकर बच्चे को नई जिंदगी मिल गई। रोहन के पिता कँवल सिद्दीकी ने विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से पाकिस्तानियों के लिए मेडिकल वीजा सुविधा को आसान करने की गुजारिश की ताकि आसानी से किसी जरुरतमंद का इलाज हो सके।
बच्चे के दिल में बड़े सुराख़ थे
चार महीने के पाकिस्तानी बच्चे रोहन के दिल में छेद था, जिसका पाकिस्तान के अस्पतालों में इलाज संभव नहीं हो पा रहा था। इसके बाद रोहन के परिजनों ने भारत में इलाज कराने का मन बनाया, लेकिन इन दिनों दोनों देशों के बीच चल रहे तनाव की वजह से रोहन को वीजा मिलने में मुश्किल हो रही थी।परिजनों ने सुषमा स्वराज से ट्विटर के जरिए संपर्क साधा तो उन्होंने मानवीय पहलू को ध्यान में रखते हुए रोहन का भारत आने का इंतजाम करा दिया। इसके बाद जेपी अस्पताल के पीडियाट्रिक कार्डियेक सर्जन डॉ. राजेश शर्मा ने रोहन के दिल का ऑपरेशन किया।
पिता ने नम आँखों से दी दुआ भावुक पिता कँवल सिद्दीक़ी ने अपनी नम आँखों से दुआ देते हुए कहा कि मेरे बच्चे का दिल भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज की वजह से धड़क रहा है। उन्होंने हिंदुस्तान और हिंदुस्तान की विदेश मंत्री दोनों का शुक्रिया अदा किया। कंवल ने भारत का शुक्रिया अदा किया और कहा कि भले ही लोगों के मन में गलत धारणा हो लेकिन भारत और पाकिस्तान के लोग एक दूसरे के बारे में अच्छा ही सोचते हैं.
डॉक्टरों की कोशिश रंग लाई
दिल्ली के हार्ट स्पेशलिस्ट आशुतोष मारवाह का कहना है कि रोहन का इलाज आसान नहीं था, उसके दिल में मल्टिपल कई सुराख़ थे और जो साइज़ में काफ़ी बड़े भी थे लेकिन हमारी डॉक्टरों की टीम ने पूरी मेहनत इलाज किया. इसके बाद आज रोहन की स्थिति पूरी तरह से दुरुस्त है. वह पूरे तौर पर स्वस्थ है.

It's only fair to share...Share on Facebook0Share on Google+0Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn0