मेरे अल्लाह खतरे में तेरे भगवान खतरे में

mere allah khatare mein tere bhagvan khatre mein poem by mahesh katare sugam

ग़ज़ल

mere allah khatare mein tere bhagvan khatre mein poem by mahesh katare sugamहमारी हर समय रहने लगी है जान खतरे में
कभी दीवाली खतरे में कभी रमज़ान खतरे में

किसी के ऐतराज़ों में उलझकर रह गयी श्रद्धा
कहीं पर हव्य खतरे में कहीं लोबान खतरे में

ज़रा सी बात पर पड़ते दिखाई देने लगते हैं
मेरे अल्लाह खतरे में तेरे भगवान खतरे में

नहीं महफूज़ दिखती है यहां इंसान की हस्ती
यहां है शान खतरे में वहां सम्मान खतरे में

घिरे रहते हमेशा ही यहां पर खौफ के बादल
सियासत की वज़ह से आ गया इंसान खतरे में

सुगम अब फूलने ,फलने के पहले सूख जाते हैं
दुआएं सख्त खतरे में सभी वरदान खतरे में

(महेश कटारे सुगम )

महेश कटारे सुगम Mahesh Katare sugam

महेश कटारे सुगम हिंदी और बुंदेली कविता का एक मशहूर नाम हैं।  उनके फेसबुक पेज के लिए यहाँ से जाएँ  https://www.facebook.com/maheshkatare.sugam

यह भी पढ़िए  दीपावली पर निबंध – Deepavali (Diwali) Essay in Hindi