अहमदाबाद.जापान के प्रधानमंत्री शिंजे आबे और पीएम नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को यहां बहुप्रतीक्षित अहमदाबाद-मुंबई बुलेट ट्रेन की आधारशिला रखी. आबे ने हिंदी में संबोधन शुरू किया.आबे ने भारत और जापान के लिए एक नया नारा ‘जय जापान, जय इंडिया’ देते हुए आगे भी भारत की मदद का आश्वासन दिया. यह प्रोजेक्ट करीब 1 लाख करोड़ रुपए का है. इसके साथ हजारों लोगों के लिए रोजगार के रास्ते भी खुलेंगे. बुलेट ट्रेन का यह प्रोजेक्ट अहमदाबाद से मुंबई तक का है. सरकार की तरफ से यह प्रोजेक्ट 2022 तक पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है.

आबे ने नमस्कार के साथ बोलना शुरू करते हुए कहा, ‘यह दोनों देशों के बीच दोस्ती की नई शुरुआत है. जापान के 100 से ज्यादा अधिक इंजिनियर भारत आ चुके हैं.  दोनों देशों के इंजिनियर अगर मिलकर मेहनत करें तो कोई काम ऐसा नहीं जो संभव नहीं हों. आबे ने संबोधन का समापन धन्यवाद से किया. जापानी पीएम ने कहा कि उन्हें 10 साल पहले भारत की संसद को संबोधित करने का मौका मिला. वह चाहते हैं कि जब अगली बार भारत की यात्रा पर आए तो शिनकानसेन में बैठक मोदी के साथ अहमदाबाद से मुंबई की यात्रा करें. उन्होंने कहा, ‘मैं मोदी, गुजरात और भारत को पसंद करता हूं. भारत के लिए जो कुछ भी करना होगा उसे मैं करूंगा.’

अहमदाबाद के साबरमती स्थित रेलवे के एथलेक्टिस स्टेडियम में आयोजित एक भव्य समारोह में दस हजार से अधिक लोगों के समक्ष दोनों प्रधानमंत्रियों ने यहां बनने वाले मुख्य स्टेशन एवं यार्ड तथा वडोदरा में निर्मित होने वाले हाईस्पीड रेल ट्रैक प्रशिक्षण संस्थान के निर्माण की आधारशिला पट्टिका का अनावरण किया. इस मौके पर श्री फणनवीस ने कहा कि यह बुलेट ट्रेन परियोजना की नहीं बल्कि नए भारत की नींव रखी गई है.इसका गुजरात एवं महाराष्ट्र के लाखों लोगों को रोजगार मिलेगा. दोनों राज्योंं के सकल घरेलू उत्पाद में वृद्धि होगी. पूरे गुजरात में बुलेट ट्रेन को लेकर बहुत उल्लास एवं उत्साह का माहौल है. सभी आय वर्गों के लोग बुलेट ट्रेन को जल्द से जल्द देखने को उत्सुक हैं.